what is www in hindi- www kya hai? www kaise kam karta hai hindi me

world wide web (www) kya hai? what is www in Hindi?(world wide web):आज के समय में हर कोई internet का इस्तेमाल करते है? आज के इस रोज मरना के जीबन में हम internet के साथ जुर सुके होते है. जहा हम आपने रोज के जिन्दगी में किसी ना किसी काम के लिए internet का इस्तेमाल करते ही है.

जब भी आप internet पर किसी भी site को open करते है तो आपको उस site के जो domain name होते है उसके साथ www भी जोर के आते है.

क्या आप ये जानते है की ये www kya है?(what is www in hindi)www क्यों किसी भी site में आपने आप ही जुर जाते है? इस www को क्यों बनाया है? www की full form, इसकी history? आज के इस article में हम इसी www के बिषय के बारेमे ही बात करेंगे.  जिससे आपको www के बारेमे जानने में आसानी होगी. और आपको www से related सभी जानकारी भी मिल जायेंगे. तो आये जानते है what is www in Hindi?

www kya hai? What is www in Hindi? www ka full from kya hai ?

“www” का full form है world wide web. जिसे हम web या w3 भी कहा जाता है? यह एक web page का समूह है.

Web यानि www internet पर मजुड सभी document या image video जेसे संसाधनो का समूह होता है. जिनकी पह्सान hypertext link के द्वारा kya जाता है. जिसमे इन सभी को अलग अलग link यानि url के द्वारा एक दुसरे के साथ जुरे रहते है.  इन सभी को पह्साने के लिए web browser पर internet की माध्यम से url के जरिये इन सभी web page तक पाहस सकते है.

अगर सरल भासा में कहू तो www एक online process होता है जिसमे आप web browser के सहायता से internet पर किसी भी जानकारी को प्रप्त कर सकते है.

Webpage में आपके सभी content को HTML (Hypertext markup language) formatमें होते है. जिसे access करने के लिए HTTP (Hypertext transfer protocols)माध्यम से access kya जाया है.

www की history? www को किसने बनाया?

वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार 1989में एक ब्रिटिश वैज्ञानिक टिम बर्नर्स-ली ने किया था। वह उस समय CERN में काम कर रहे थे। मूल रूप से, यह दुनिया भर के वैज्ञानिकों के बीच स्वचालित सूचना साझा करने की आवश्यकता को पूरा करने के लिए उनके द्वारा विकसित किया गया था, ताकि वे एक-दूसरे के साथ अपने प्रयोगों और अध्ययनों के डेटा और परिणामों को आसानी से साझा कर सकें।

सर्न, जहां टिम बर्नर्स ने काम किया, 100से अधिक देशों के 1700 से अधिक वैज्ञानिकों का एक समुदाय है। ये वैज्ञानिक CERN साइट पर कुछ समय बिताते हैं, और बाकी समय वे अपने विश्वविद्यालयों और अपने देश में राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं में काम करते हैं, इसलिए विश्वसनीय संचार साधनों की आवश्यकता थी ताकि वे सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकें।

 

इस समय इंटरनेट और हाइपरटेक्स्ट उपलब्ध थे, लेकिन किसी ने भी यह नहीं सोचा था कि एक दस्तावेज़ को दूसरे से जोड़ने या साझा करने के लिए इंटरनेट का उपयोग कैसे किया जाए। टिम तीन मुख्य तकनीकों पर ध्यान केंद्रित करता है जो कंप्यूटर को एक-दूसरे, HTML, URL और HTTP को समझ सकता है। इसलिए, WWW के आविष्कार के पीछे का उद्देश्य हाल ही में कंप्यूटर प्रौद्योगिकियों, डेटा नेटवर्क और हाइपरटेक्स्ट को एक उपयोगकर्ता के अनुकूल और प्रभावी वैश्विक सूचना प्रणाली में संयोजित करना था।

वर्ल्ड वाइड वेब www के विकास की शुरुआत 1989 में Tim Berners-Lee और उनके सहयोगियों ने CERNमें, जिनेवा, स्विट्जरलैंड में स्थित एक अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक संगठन द्वारा की गई थी। उन्होंने एक प्रोटोकॉल बनाया, हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (HTTP), जिसने सर्वर और क्लाइंट के बीच संचार को मानकीकृत किया। उनका पाठ-आधारित वेब ब्राउज़र जनवरी 1992 में सामान्य रिलीज़ के लिए उपलब्ध कराया गया था।

इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब के बीच का अंतर – difference between internet and world wide web in hindi

कुछ लोग इंटरनेटऔर वर्ल्ड वाइड वेबशब्दों का परस्पर प्रयोग करते हैं। उन्हें लगता है कि वे एक ही चीज हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। इंटरनेट WWW से बिल्कुल अलग है। यह कंप्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट आदि जैसे उपकरणों का एक विश्वव्यापी नेटवर्क है। यह उपयोगकर्ताओं को अन्य उपयोगकर्ताओं को ईमेल भेजने और उनके साथ ऑनलाइन चैट करने में सक्षम बनाता है। उदाहरण के लिए, जब आप ईमेल भेजते हैं या ऑनलाइन किसी से चैट करते हैं, तो आप इंटरनेट का उपयोग कर रहे हैं।

लेकिन, जब आपने जानकारी के लिए google.com जैसी वेबसाइट खोली है, तो आप वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग कर रहे हैं; इंटरनेट पर सर्वर का एक नेटवर्क। आप एक ब्राउज़र का उपयोग करके अपने कंप्यूटर से एक वेबपेज का अनुरोध करते हैं, और सर्वर उस पेज को आपके ब्राउज़र तक पहुंचाता है। आपके कंप्यूटर को एक क्लाइंट कहा जाता है, जो एक प्रोग्राम (वेब ब्राउज़र) चलाता है, और दूसरे कंप्यूटर (सर्वर) से उसकी जरूरत की जानकारी मांगता है।

How world wide web works in Hindi? world wide web kaise kam karta hai?

अब, हम समझ गए हैं कि डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू इंटरनेट से जुड़ी वेबसाइटों का एक संग्रह है, ताकि लोग जानकारी खोज और साझा कर सकें। अब, हम समझते हैं कि यह कैसे काम करता है!

वेब इंटरनेट के मूल क्लाइंट-सर्वर प्रारूप के अनुसार काम करता है। सर्वर उपयोगकर्ताओं द्वारा अनुरोध किए जाने पर वेब पेज या नेटवर्क पर उपयोगकर्ता के कंप्यूटर पर जानकारी संग्रहीत और स्थानांतरित करते हैं। एक वेब सर्वर एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है, जो वेब यूजर्स द्वारा ब्राउजर का इस्तेमाल करके मांगे गए वेब पेज पर काम करता है। एक सर्वर से दस्तावेजों का अनुरोध करने वाले उपयोगकर्ता का कंप्यूटर क्लाइंट के रूप में जाना जाता है। ब्राउज़र, जो उपयोगकर्ता के कंप्यूटर पर स्थापित है, उपयोगकर्ताओं को पुनः प्राप्त दस्तावेजों को देखने की अनुमति देता है।

सभी वेबसाइटें वेब सर्वर में संग्रहित हैं। जिस तरह कोई घर में किराए पर रहता है, उसी तरह एक वेबसाइट एक सर्वर में जगह घेरती है और उसमें जमा रहती है। जब भी कोई उपयोगकर्ता अपने वेबपेजों का अनुरोध करता है, तो सर्वर वेबसाइट को होस्ट करता है, और वेबसाइट के मालिक को उसी के लिए होस्टिंग मूल्य का भुगतान करना पड़ता है।

जिस क्षण आप ब्राउज़र खोलते हैं और एड्रेस बार में URL टाइप करते हैं या Google पर कुछ खोजते हैं, डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू काम करना शुरू कर देता है। सर्वर से क्लाइंट (उपयोगकर्ताओं के कंप्यूटर) तक सूचना (वेब पेज) को स्थानांतरित करने में तीन मुख्य प्रौद्योगिकियां शामिल हैं। इन तकनीकों में हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज (HTML), हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (HTTP) और वेब ब्राउज़र शामिल हैं।

HTML – hypertext markup language

HTML एक standard markup language  है जीके हम web page को create करने के लिए इस्तेमाल करते है? ये आपको वबे page की बनबत को दरसाते है HTMLelements और tags के जरिये. ये सभी tags web page में मजूद सभी content text,paragraph, table, image video इन सभी को दर्शाते है. आप कभी भी web page पर इन html की elements और tags को नही देख सकते है. आप सिर्फ उस web page की content को ही देख सकेंगे. आसान भासा में कहू तो html ही है जिसके माध्यम से web page की सभी resource को देखाया जा सकता है.

Web browser

web browser जिसे हम browser के नाम से भी जानते है. web browser ही है जिसके जरिये आप उन सभी content को देख सकेंगे. ये आपको एक software के interface में provide kya जा सकता है. और इसी की माध्यम से आप www यानि world wide web पर मजूद सभी web page को access कर सकेंगे. जब आप इन web browser को open करेंगे तो आप इसमें किसी भी url को type करके उस web page तक पाहस सकेंगे.

HTTP – Hypertext transfer protocols

Hypertext transfer protocols (हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल HTTP) एक एप्लीकेशन लेयर प्रोटोकॉल है जो WWW को सुचारू रूप से और प्रभावी ढंग से काम करने में सक्षम बनाता है। यह क्लाइंट-सर्वर मॉडल पर आधारित है। क्लाइंट एक वेब ब्राउज़र है जो वेब सर्वर के साथ संचार करता है जो वेबसाइट को होस्ट करता है। यह प्रोटोकॉल परिभाषित करता है कि कैसे संदेश स्वरूपित और प्रसारित किए जाते हैं और वेब कमांड और ब्राउज़र को विभिन्न कमांड के जवाब में क्या कार्रवाई करनी चाहिए। जब आप ब्राउज़र में URL दर्ज करते हैं, तो वेब सर्वर पर एक HTTP कमांड भेजा जाता है, और यह अनुरोधित वेब पेज को प्रसारित करता है।

जब हम एक ब्राउज़र का उपयोग करके एक वेबसाइट खोलते हैं, तो वेब सर्वर से एक कनेक्शन खोला जाता है, और ब्राउज़र HTTP के माध्यम से सर्वर के साथ संचार करता है और एक अनुरोध भेजता है। HTTP को सर्वर से संवाद करने के लिए TCP / IP पर ले जाया जाता है। सर्वर ब्राउज़र के अनुरोध को संसाधित करता है और एक प्रतिक्रिया भेजता है, और फिर कनेक्शन बंद हो जाता है। इस प्रकार, ब्राउज़र उपयोगकर्ता के लिए सर्वर से सामग्री को पुनः प्राप्त करता है।

Conclusion- what is www in hindi

तो आप सभी को www kya hai (what is www in Hindi) ये जान गए होंगे. और ये भी जान गए होंगे की www और internet के बिज kya अंतर है.  यदि आपको इसे related किसी भी प्रकार के कोई भी दिकात है तो आप हमें comment में बता सकते है.

उमीद है आपको हमारे ये पोस्ट पसंद आये होंगे. यदि आपको हमारे इन पोस्ट के जरिये कुस नया जाने को मिला है तो आप इसे आपने दोस्त के साथ जरुर share करे जिसे उन्हें भी कुस नया जाने ने में मदद मिलेंगे. और हमें भी सहायता मिलेगी इस site को आगे बढ़ाने में.

Leave a Comment

%d bloggers like this: